Prayagraj : महाकुंभ 2025 में लाखों श्रद्धालुओं का स्वागत करेगी चमचमाती संगमनगरी

Prayagraj
Prayagraj

प्रयागराज, 8 जुलाई । Prayagraj : उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में महाकुंभ मेला-2025 को भव्य और दिव्य बनाने के लिए सोमवार को प्रमुख सचिव नगर विकास, अमृत अभिजात की अध्यक्षता में मेला प्राधिकरण की महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई।

महाकुंभ मेला-2025 एक भव्य आयोजन बैठक आयोजित 

Prayagraj : इस बैठक में प्रयागराज शहर में रोड सौंदर्यीकरण, लाइटिंग, वॉल पेंटिंग्स, मुख्य चौराहों पर मूर्तियों की स्थापना, साइनेज और हॉर्टिकल्चर परियोजनाओं पर चर्चा की गई। प्रमुख सचिव ने निर्देश दिए कि सभी कार्यों को एक ही थीम में करते हुए, उच्च गुणवत्ता, कॉस्ट इफेक्टिवनेस और समय सीमा का पालन किया जाए।


यह भी देखें: Special Article : महतारी वन्दन; रुपया हजार,खुशियां अपार

प्रयागराज शहर को सुंदर और आकर्षक बनाया जाएगा

Prayagraj : उन्होंने कहा कि महाकुंभ मेला-2025 एक भव्य आयोजन होगा। इन परियोजनाओं के माध्यम से प्रयागराज शहर को सुंदर और आकर्षक बनाया जाएगा, जो लाखों श्रद्धालुओं का स्वागत करने के लिए तैयार होगा। बैठक में बताया गया कि रोड सौंदर्यीकरण के तहत शहर की प्रमुख सड़कों को नया रूप दिया जाएगा, जिनमें पेड़-पौधे लगाए जाएंगे। फुटपाथों का निर्माण किया जाएगा और सड़क के किनारे सुंदर लाइटिंग की जाएगी।

Prayagraj : शहर की दीवारों पर कुंभ मेला के इतिहास को दर्शाती कलाकृतियां बनाई जाएंगी

Prayagraj : शहर की दीवारों पर कुंभ मेला के इतिहास और महत्व को दर्शाती कलाकृतियां बनाई जाएंगी। मुख्य चौराहों पर प्रयागराज की संस्कृति और इतिहास दर्शाती मूर्तियों की स्थापना की जाएगी। शहर में नए साइनेज बोर्ड लगाए जाएंगे, जो श्रद्धालुओं को महाकुंभ मेला स्थल और अन्य महत्वपूर्ण स्थानों तक पहुंचने में मदद करेंगे। शहर में पार्कों और उद्यानों का निर्माण किया जाएगा, जिनमें पेड़-पौधे लगाए जाएंगे।

Prayagraj : 36 चौराहों को महाकुंभ के लिए सजाया जाएगा

Prayagraj : प्रमुख सचिव ने बताया कि 15 स्थानों पर प्लेसमेकिंग इंस्टालेशन, 4 स्थानों पर थीमेटिक इंस्टालेशन, 2 स्थानों पर मूर्तियों की स्थापना और हॉर्टिकल्चर के तहत दो प्रकार, एक मौसमी फूलों और दूसरे लंबे समय तक हरियाली बनाए रखने वाले पौधे लगाए जाएंगे। इसके अलावा, 36 चौराहों को महाकुंभ के लिए सजाया जाएगा।


यह भी देखें: Rath Yatra : मुख्यमंत्री साय जगन्नाथ रथ यात्रा में छेरापहरा की रस्म निभाई, सोने के झाड़ू से साफ भी किया

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here