Today’s Gold Rate: शुक्रवार सुबह सोने का दाम 440 रुपये तक बढ़ा, चालू वित्त वर्ष में स्वर्ण आभूषणों की राजस्व वृद्धि स्थिर रहने की संभावना

नई दिल्ली,

सोने की कीमतों में उतार चढ़ाव का दौर आज भी जारी है। बीते कई दिनों से जारी गिरावट के बाद दिल्ली के सराफा बाजार में आज सोने की कीमतों में तेजी देखी जा रही है। शुक्रवार सुबह सोने की कीमतें 440 रुपये तक चढ़ गई हैं। हालांकि अंतरराष्ट्रीय मार्केट में अमेरिकी डॉलर में तेजी के बीच शुक्रवार को सोने की कीमतों में फिर गिरावट आई है।

क्या हैं 22 कैरेट और 24 कैरेट के भाव 

सोने के भाव की जानकरी देने वाली वेबसाइट गुड रिटर्न के मुताबिक आज 22 कैरेट सोने के भाव में 400 रुपये की तेजी दिखाई दी है। गुरुवार के 46000 रुपये प्रति 10 ग्राम के मुकाबले कीमत बढ़कर 46400 रुपये पर पहुंच गईं। वहीं 24  कैरेट सोने के भाव की बात करें तो यहां 440 रुपये प्रति 10 ग्राम की बढ़ोत्तरी आई है। इसके बाद कीमतें 50180 से बढ़कर 50620 रुपये प्रति 10 ग्राम तक पहुंच गई हैं।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोना टूटा 

इंटरनेशनल मार्केट की बात करें तो यहां हाजिर सोना 0.2 फीसदी की गिरावट के साथ 1,714.72 डॉलर प्रति औंस पर था। गुरुवार को कीमतें साल भर के अपने सबसे निचले स्तर 1,680.25 डॉलर पर आ गईं थीं। अमेरिकी सोना वायदा 0.1 फीसदी की तेजी के साथ 1,714.90 डॉलर प्रति औंस पर था। हाजिर चांदी 0.3 प्रतिशत गिरकर 18.78 डॉलर प्रति औंस हो गई, जबकि प्लैटिनम 0.3 प्रतिशत बढ़कर 873.92 डॉलर और पैलेडियम 0.2 प्रतिशत बढ़कर 1,895.86 डॉलर हो गया।

16 दिन पहले भाव 52 हजार से ऊपर था 

इस महीने की शुरुआत में सोने का भाव 52 हजार रुपये से अधिक था। राष्ट्रीय राजधानी में 5 जुलाई को सोने का भाव 52,050 रुपये प्रति 10 ग्राम था। वहीं, चांदी की कीमत 58,358 रुपये प्रति किलो पर पहुंच गई थी। इसके बाद सोने और चांदी की कीमत में लगातार गिरावट देखने को मिल रही है।

गोल्ड ज्वैलरी की घट सकती है मांग

भारत में सोने के आभूषणों (Gold Jewelery) की मांग चालू वित्त वर्ष में पांच फीसदी घटकर 550 टन रह सकती है। इसकी मुख्य वजह सीमा शुल्क (Custom Duty) में बढ़ोतरी है। एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी गई है। रेटिंग एजेंसी क्रिसिल (CRISIL) ने बुधवार को कहा कि 30 जून को सोने पर सीमा शुल्क को 5 फीसदी बढ़ाकर 12.5 फीसदी किया गया। इससे चालू वित्त वर्ष में स्वर्ण आभूषणों के खुदरा विक्रेताओं की राजस्व वृद्धि स्थिर रहने की संभावना है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here