भाजपा में यदि साहस है तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के सवालों का जवाब दें…. भाजपा बताये उदयपुर हत्याकांड संयोग या प्रयोग ?

सुशील आनंद शुक्ला अध्यक्ष कांग्रेस संचार विभाग छत्तीसगढ़ प्रदेश कांग्रेस कमेटी
रायपुर

उदयपुर में हुए नृशंस हत्याकांड पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल द्वारा पूछे गए सवालों को जायज ठहराते हुए प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि उदयपुर के हत्यारों का भाजपा कार्यकर्ता होने के खुलासे के बाद भाजपा  को इस मामले में देश की जवाब देना चाहिये। भाजपा नेत्री नूपुर शर्मा द्वारा धर्म विशेष पर की गई गलत बयानी और उसके बाद भाजपा के ही कार्यकर्ता रियाज़ अत्तारी द्वारा एक मासूम नागरिक की हत्या केवल संयोग नहीं हो सकता। भाजपा को यह स्पष्ट करना चाहिए कि हत्यारों ने किसके निर्देश पर हत्या को अंजाम दिया ? पूरे घटनाक्रम को देखने पर समझ आता है कि यह देश में अशांति फैला कर सांप्रदायिकता की राजनीति करने का षड्यंत्र पूर्ण प्रयास है। माननीय सुप्रीम कोर्ट ने भी पूरे घटनाक्रम के लिए भाजपा नेत्री नूपुर शर्मा को जिम्मेदार बताया है। सुप्रीम कोर्ट का साफ तौर पर कहना है कि भाजपा नेत्री नूपुर शर्मा ने सांप्रदायिकता फैलाई और देश को खतरे में डाला। न्यायालय ने भाजपा नेत्री के बयान को सत्ता का अहंकार बताते हुए पूरे देश से माफी मांगने की बात कही है। भाजपा की पहचान देश में शुरू से ही सांप्रदायिक और षड्यंत्र कारी पार्टी के रूप में रही है। भाजपा अपने निकम्मे पन को ढकने के लिए अक्सर सांप्रदायिकता का सहारा लेती है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि भाजपा को अच्छी तरह पता है कि देश की जनता मोदी सरकार से बुरी तरह नाराज है। महंगाई के कारण आम जनता का जीवन नर्क बन चुका है। देश में थोक महंगाई दर बढ़कर 15.8 प्रतिशत के पार पहुंच गई है। दो करोड़ प्रतिवर्ष रोजगार देने की बात कहने वाली सरकार में कई करोड़ लोग बेरोजगार हो गए हैं। मोदी सरकार की गलत नीतियों के कारण देश में पहली बार कोयले का संकट पैदा हुआ है। देश के उद्योग धंधों पर लगातार ताले लग रहे हैं। मोदी सरकार के चंद उद्योगपति मित्रों को छोड़कर देश में किसी भी वर्ग का व्यक्ति खुश नहीं है। ऐसी स्थिति में भाजपा के पास वही पुराना फूट डालो और शासन करो का पैंतरा बाख जाता है।

प्रदेश कांग्रेस संचार विभाग अध्यक्ष सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि बहुत हद तक संभव है कि देश की नाराज जनता का ध्यान भटकाने के लिए इस प्रकार का प्रायोजित घटनाक्रम रचा गया हो। यह पहली बार नहीं है कि इस प्रकार की सांप्रदायिक वारदात में भाजपा का कनेक्शन उजागर हुआ हो। इससे पहले भी अनगिनत बार भाजपा दंगे भड़का कर राजनीतिक लाभ लेने का प्रयास करती रही है। अक्सर चुनावों से पहले भाजपा भय और नफरत का माहौल बनाना शुरु कर देती है जिसके कारण दंगे होते हैं। क्योंकि नूपुर शर्मा और हत्यारों दोनों का ही संबंध भाजपा से है इसलिए भाजपा को पूरे घटनाक्रम को देश के सामने स्पष्ट करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here